हल्दीघाटी के युद्ध से संबंधित तथ्य

हल्दीघाटी के युद्ध से संबंधित तथ्य | 18 जून, 1576 ई. (आषाढ़ बंदी दिसं. 1633) को प्रातः हल्दीघाटी, राजसमंद में युद्ध भेरी बजी | इस युद्ध को सबसे पहले हल्दीघाटी जेम्स टॉड ने कहा था

हल्दीघाटी के युद्ध से संबंधित तथ्य

जेम्स टॉड ने इस युद्ध को हल्दीघाटी का युद्ध एवं हल्दी घाटी को मेवाड़ की थर्मोपल्ली, अबुल फजल खमनौर का युद्ध तथा बदायूँनी गोगुंदा का युद्ध व युद्ध में एकमात्र इतिहासकार बदायूँनी उपस्थित था.

राणा का पठान सेनानायक- हाकिम खां सूर (हरावल), मुगल सेनानायक- मानसिंह कच्छवाहा, राणा ने केन्द्र बनाया- ढोलाण (ढोल) गाँव, प्रताप की सेना का जनरल- महाराणा प्रताप, कमाण्डर- शेरशाह का उत्तराधिकारी हाकिम खां सूर थे.

यह भी देखे :- हल्दीघाटी का युद्ध

अन्य सेनानायक निम्न थे- ग्वालियर राजा रामशाह तोमर एवं उसके तीन पुत्र (शालिवान, भवानीसिंह तथा प्रतापसिंह), भीमसिंह डोड़िया, सादड़ी का बीदा झाला, झाला मानसिंह (सज्जावत), सोनगरा मानसिंह (अखराजोत), रावतकृष्ण दास (चूण्डावत), रावत नेतसिंह, रावतसांगा राठौड़, रामदास बदनौर, मेरपुर का राणापूंजा, सांगरदेवोत, पडियार कल्याण, महासानी जगन्नाथ, पुरोहित गोपीनाथ एवं जगन्नाथ, बच्छावत एवं जयमल मेहता, रतन चन्द खेतावत, राठौड़ शंकरदास थे.

हल्दीघाटी के युद्ध से संबंधित तथ्य
हल्दीघाटी के युद्ध से संबंधित तथ्य
यह भी देखे :- महाराणा प्रताप: गुहिल वंश

चारण- केशव (सोढ़ा) और जेसा, भामाशाह और उसका भाई ताराचंद, भील नेता- पूंजा भील, अकबर की सेना का जनरल आसफ खां, कमाण्डर मानसिंह कच्छवाहा, अन्य सेनानायक थे- जगन्नाथ कच्छवाहा, माधोसिंह कच्छवाहा, सैयद हाशिम, सैयद राजू, मिहतरखां, राव लूणकरण, मुजाहिद बेग, खंगार, गाजीखां बदख्शी, शेखजादा सीकरी, बहलोल खान, राणा प्रताप के भाई-जगमाल, शक्तिसिंह (शक्ता) और सगर, हल्दीघाटी में मानसिंह के हाथी का नाम था- मरदाना, अकबर के हाथी का नाम हवाई तथा अन्य प्रसिद्ध हाथी थे लूणा, रामप्रसाद, गजमुक्त, गजराज रन मादर आदि।

उड़ीसा में बूढ़ी बलंग नदी के तट पर अंग्रेजी शासन पुलिस दल के साथ हुए यतीन मुकर्जी (बाबा यतीन) के संघर्ष के कारण को लेकर बंगला के सुविख्यात विद्रोही कवि काजी नजरूल इस्लाम ने उस स्थान को ‘नवभारतेर हल्दीघाटी’ कहा है।

यह भी देखे :- महाराणा उदयसिंह: गुहिल वंश

हल्दीघाटी के युद्ध से संबंधित तथ्य FAQ

Q 1. जेम्स टॉड ने मेवाड़ की थर्मोपल्ली किसे कहा है?

Ans – जेम्स टॉड ने मेवाड़ की थर्मोपल्ली हल्दीघाटी को कहा है.

Q 2. हल्दीघाटी के युद्ध को अबुल फजल ने क्या नाम दिया?

Ans – हल्दीघाटी के युद्ध को अबुल फजल ने ‘खमनौर का युद्ध’ नाम दिया था.

Q 3. हल्दीघाटी के युद्ध को बदायूँनी ने क्या नाम दिया था?

Ans – हल्दीघाटी के युद्ध को बदायूँनी ने ‘गोगुंदा का युद्ध’ नाम दिया था.

Q 4. हल्दीघाटी के युद्ध में कौन एकमात्र इतिहासकार उपस्थित था?

Ans – हल्दीघाटी के युद्ध में एकमात्र इतिहासकार बदायूँनी उपस्थित था.

Q 5. हल्दीघाटी के युद्ध में राणा का पठान सेनानायक कौन था?

Ans – हल्दीघाटी के युद्ध में राणा का पठान सेनानायक हाकिम खां सूर था.

Q 6. हल्दीघाटी के युद्ध में मुगल सेनानायक कौन था?

Ans – हल्दीघाटी के युद्ध में मुगल सेनानायक मानसिंह कच्छवाहा था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- बनवीर: गुहिल वंश

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published.