दुल्हराय: ढूंढाड़ राज्य की स्थापना

दुल्हराय: ढूंढाड़ राज्य की स्थापना | ढूंढाड़ शब्द से धूल भरा रेगिस्तान अभिव्यजित है, जो दूर-दूर तक अपने शुष्क भू-भाग लिए फैला हुआ है। एक अन्य धारणा के अनुसार ढूंढाड़ नाम एक राक्षस के नाम पर पड़ा है

दुल्हराय: ढूंढाड़ राज्य की स्थापना

डॉ. जे.पी. स्ट्रेटन के कथन के अनुसार ढूंढाड़ शब्द से धूल भरा रेगिस्तान अभिव्यजित है, जो दूर-दूर तक अपने शुष्क भू-भाग लिए फैला हुआ है। एक अन्य धारणा के अनुसार ढूंढाड़ नाम एक राक्षस के नाम पर पड़ा है। गलता की एक गुफा ढूंढ़ राक्षस का निवास मानी जाती है।

यह भी देखे :- कछवाहा राजवंश

इसके अतिरिक्त इस राज्य में ढूँढ नदी भी है। कर्नल टॉड इस शब्द को प्रसिद्ध यज्ञीय टीले के नाम से निसृत मानते हैं। एक मान्यता के अनुसार अजमेर के प्रतापी शासक बीसलदेव चौहान ने दौसा क्षेत्र में अपने शत्रुओं को पराजित किया तथा ढूँढ-ढूँढ़ कर उनका विनाश किया। इसी कारण इस भू-भाग का नाम कालान्तर में ढूंढाड़ पड़ा।

दुल्हराय: ढूंढाड़ राज्य की स्थापना
दुल्हराय: ढूंढाड़ राज्य की स्थापना
यह भी देखे :- सिरोही की स्थापना

राजा नल की संतति ने ही ढूँढाड़ राज्य पर शासन किया। नल की 21वीं पीढ़ी में 33वें शासक ग्वालियर नरेश सोढ़देव थे। सोढ़देव के पुत्र दूलेराम (दुल्हराय) का विवाह मौरा के चौहान शासक रालपसी की कन्या सुजान कंवर के साथ हुआ था। 10वीं शताब्दी में दौसा नगर पर दो राजवंश चौहान राजवंश और बड़गुर्जर राज्य कर रहे थे। चौहान राजवंश ने अपनी सहायता के लिए ग्वालियर से अपने जमाता दुल्हराय को आमंत्रित किया।

दुल्हराय ने धोखे से बड़गुर्जरों को हराकर ढूँढाड़ का शासन अपने पिता सोढ़देव को सौंप दिया। सोढ़देव ने 996 ई. से 1006 ई. तक तथा दुल्हराय ने 1006 ई. से 1035 ई. तक ढूँढाड़ पर शासन किया। दौसा के पश्चात् कच्छवाहा नरेशों ने जमवारामगढ़ को दूसरी राजधानी बनाया।

यह भी देखे :- सिरोही के चौहान

दुल्हराय: ढूंढाड़ राज्य की स्थापना FAQ

Q 1. ढूंढाड़ शब्द क्या तात्पर्य है?

Ans – ढूंढाड़ शब्द से तात्पर्य है की धूल भरा रेगिस्तान अभिव्यजित है, जो दूर-दूर तक अपने शुष्क भू-भाग लिए फैला हुआ है.

Q 2. ढूँढाड़ राज्य पर शासन किसने किया था?

Ans – राजा नल की संतति ने ही ढूँढाड़ राज्य पर शासन किया था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- राव मुकुन्द सिंह के उत्तराधिकारी

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published.