प्राचीन भारत में यात्रा के दौरान यूनानी रोमन लेखकों का विवरण

प्राचीन भारत में यात्रा के दौरान यूनानी रोमन लेखकों का विवरण | Description of Greek Roman writers while traveling in ancient India | यूनानी रोमन लेखकों का विवरण | Description of Greek roman writers |

प्राचीन भारत में यात्रा के दौरान यूनानी रोमन लेखकों का विवरण

प्रमुख यूनानी-रोमन लेखक

  • टेसियस
  • हेरोडोटस
  • मेगास्थनीज
  • डाईमेकस
  • डयोनिसियास
  • टॉलमी
  • प्लिनी
प्राचीन भारत में यात्रा के दौरान यूनानी रोमन लेखकों का विवरण
प्राचीन भारत में यात्रा के दौरान यूनानी रोमन लेखकों का विवरण
यह भी देखे :- जैन साहित्य क्या है | What is Jain Literature

यात्रा का वर्णन

  • टेसियस
    • यह ईरान का राजवैद्य था. हमारे देश के सम्बन्ध में टेसियस का का विवरण आश्चर्यजनक कहानियों से परिपूर्ण होने के कारण टेसियस का भारत के बारे में दिया गया विवरण अविश्वनीय माना जाता है.
    • यूँ तो भारत के प्राचीन द‏र्शन एवं साहित्य के संबंध में जानकारी के अत्यधिक साधन उपलब्ध हैं, किन्तु भारत के प्राचीन इतिहास की जानकारी के स्त्रोत संतोषजनक नहीं है |
    • टेसियस ने भारत के विषय में सम्पूर्ण सूचनाएं ईरानी अधिकारियों से प्राप्त की थी.
  • हेरोडोटस
    • “हेरोडोटस” को “इतिहास का पिता” कहा जाता है| हेरोडोटस ने अपनी पुस्तक हिस्टोरिका में में ५वी शताब्दी के इसा पूर्व के भारत फारस के संबंध का विवरण किया है.
    • परन्तु हेरोडोटस का विवरण भी अनुश्रुतियों व अफवाओं पर आधारित है.
  • मेगास्थनीज
    • मेगास्थनीज सेल्यूकस निकेटर का राजदूत था.
    • जो चन्द्रगुप्त मौर्य के दरबार में आया था.
    • मेगास्थनीज ने अपनी किताब इंडिका में मौर्य युग की संस्कृति व समाज के बारें में लिखा है.
    • मेगास्थनीज चन्द्र गुप्त मौर्य के दरबार में करीब 14 साल तक रहा था.
  • डाईमेकस
    • डाईमेकस सीरियन नरेश आन्तियोकस का राजदूत था.
    • डाईमेकस यात्रा के दौरान बिन्दुसार के दरबार में आया था.
    • डाईमेकस का भारत के बारें में विवरण भी मौर्य कालीन युग से संबंधित है.
  • डयोनिसियस
    • डयोनिसियस मिस्र नरेश फिलेडेफल्स का राजदूत था.
    • डयोनिसियास भारत में यात्रा के दौरान सम्राट अशोक के दरबार में आया था.
  • टॉलमी
    • टॉलमी ने दूसरी शताब्दी में भारत के भूगोल नामक पुस्तक लिखी थी.
    • टाँलेमी एक प्रसिद्द ज्योतिष थे.
    • टॉलमी ने पृथ्वी के एक चक्कर लगाने में चन्द्रमा द्वारा लगे समय का निर्धारण किया था.
    • टॉलमी ने प्रकाश के नियम को प्रतिपादित किया था.
  • प्लिनी
    • प्लिनी ने प्रथम शताब्दी में नेचुरल हिस्ट्री नामक पुस्तक लिखी थी.
    • इस पुस्तक में भारतीय पशुओं, खनिज-पदार्थों, वा पेड़-पौधों के बारें में लिखा है.
    • नेचुरल हिस्ट्री में भारत का भी कई जगहों पर उल्लेख है और ऐसा विवरण भी दिया है, व कहीं नहीं मिलता है.
    • नेचुरल हिस्ट्री 37 भागों में है और इसमें भारत के भूगोल का उल्लेख छठे भाग में है.
    • प्लिनी की यह पुस्तक मेगास्थनीज की इंडिका नामक पुस्तक पर आधारित है.
यह भी देखे :- बौद्ध साहित्य क्या है | What is Buddhist Literature

सिकंदर के साथ आने वाले लेखकों में निर्यकस, आनेसिक्रटस एवं आरिस्टोबुलस के विवरण अधिक प्रामाणिक व् विश्वास करने योग्य नहीं है.

See also  ब्राह्मण साम्राज्य | Brahmin kingdom

यात्रा के दौरान लिखी गई पुस्तकें

  • हिस्टोरिका :- हेरोडोटस
  • इंडिका :- मेगास्थनीज
  • भारत का भूगोल :- टॉलमी
  • नेचुरल हिस्ट्री :- प्लिनी
  • पेरिप्लस ऑफ़ दी इरिथ्रयन सी :- अज्ञात
    • इस पुस्तक के लेखक के बारें में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है.
    • यह लेखक लगभग 80 ई. में हिन्द महासागर की यात्रा पर आया था.
    • इसने उस समय भारत के बंदरगाहों तथा व्यापारिक वस्तुओं के बारें में जानकारी दी है.
यह भी देखे :- पुराण क्या है | What is Puraan

यूनानी रोमन FAQ

Q 2. मेगास्थनीज किसका राजदूत था?

Ans मेगास्थनीज सेल्यूकस निकेटर का राजदूत था.

Q 3. मेगास्थनीज चन्द्र गुप्त मौर्य के दरबार में कितने साल तक रहा था?

Ans मेगास्थनीज चन्द्र गुप्त मौर्य के दरबार में करीब 14 साल तक रहा था.

Q 4. डाईमेकस किसका राजदूत था?

Ans डाईमेकस सीरियन नरेश आन्तियोकस का राजदूत था.

Q 5. डाईमेकस यात्रा के दौरान किसके दरबार में आया था?

Ans डाईमेकस यात्रा के दौरान बिन्दुसार के दरबार में आया था.

Q 6. डाईमेकस का भारत के बारें में विवरण किस युग से संबंधित है?
See also  गुर्जर प्रतिहार राजवंश | Gurjara Pratihara Dynasty

Ans डाईमेकस का भारत के बारें में विवरण भी मौर्य कालीन युग से संबंधित है.

Q 7. डयोनिसियस किसका राजदूत था?

Ans डयोनिसियस मिस्र नरेश फिलेडेफल्स का राजदूत था.

Q 8. डयोनिसियास भारत में यात्रा के दौरान किसके दरबार में आया था?

Ans डयोनिसियास भारत में यात्रा के दौरान सम्राट अशोक के दरबार में आया था.

Q 9. टॉलमी ने “भारत के भूगोल” नामक पुस्तक कब लिखी थी?

Ans टॉलमी ने दूसरी शताब्दी में भारत के भूगोल नामक पुस्तक लिखी थी.

Q 10. प्लिनी ने प्रथम शताब्दी में कौनसी पुस्तक लिखी थी?

Ans प्लिनी ने प्रथम शताब्दी में नेचुरल हिस्ट्री नामक पुस्तक लिखी थी.

Q 11. नेचुरल हिस्ट्री कितने भागों में है?

Ans नेचुरल हिस्ट्री 37 भागों में है.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- वेदांग क्या है | What is Vedang

केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment