प्राचीन भारत में यात्रा के दौरान अरबी लेखकों का विवरण

प्राचीन भारत में यात्रा के दौरान अरबी लेखकों का विवरण | अलबरुनी महमूद गजनवी के साथ भारत आया था. अलबरुनी ख्वारिज्म/खीव [आधुनिक तुर्कमेनिस्तान] का रहने वाला था

प्राचीन भारत में यात्रा के दौरान अरबी लेखकों का विवरण

प्रमुख अरबी लेखक

  1. अलबरुनी
  2. इब्न बतूता
प्राचीन भारत में यात्रा के दौरान अरबी लेखकों का विवरण
प्राचीन भारत में यात्रा के दौरान अरबी लेखकों का विवरण
यह भी देखे :- प्राचीन भारत में यात्रा के दौरान चीनी लेखकों का विवरण

यात्रा का वर्णन

  • अलबरुनी
    • अलबरुनी महमूद गजनवी के साथ भारत आया था.
    • अलबरुनी ख्वारिज्म/खीव [आधुनिक तुर्कमेनिस्तान] का रहने वाला था.
    • अलबरुनी की अरबी में लिखी गई कृति “किताब-उल-हिन्द” या ”तहकीक-ए-हिन्द” [भारत की खोज] आज भी इतिहासकारों के लिए महत्वपूर्ण स्त्रोत है.
    • यह एक विस्तृत ग्रन्थ है जो धर्म, दर्शन, त्योहारों, कीमिया, खगोल विज्ञान, रीती-रिवाज, प्रथाएँ, सामाजिक जीवन, भर-तौल व मापन विधियाँ, मूर्तिकला, कानून, मपतंत्र विज्ञान आदि विषयों के आधार पर 80 अध्यायों में विभाजित है.
    • इसने पृथ्वी की त्रिज्या मापने का सूत्र निकला था.
    • अलबरूनी फारसी विद्वान् लेखक, विचारक, धर्मज्ञ व वैज्ञानिक था.
  • इब्न बतूता
    • अफ्रीका के मोरक्को, में इब्न बतूता रहता था।
    • इब्न बतूता के द्वारा अरबी भाषा में लिखा गया उसका यात्रा वृतांत जिसे “रिहेला” कहा जाता है.
    • 14 वी शताब्दी में भारतीय उपमहाद्वीप के सांस्कृतिक व सामाजिक जीवन के विषय में बहुत ही प्रचुर मात्र में व बहुत रोचक जानकारियाँ दी गई है.
    • 1333 ई. में दिल्ली पहुँचने पर इसकी विद्वता से प्रभावित होकर सुल्तान मुहम्मद बिन तुगलक ने उसे दिल्ली का काजी व न्यायधीश नियुक्त किया था.
    • इब्न बतूता का पूरा नाम मुहम्मद बिन अब्दुल्ला इब्न बतूता था। इब्न बतूता मुस्लमान यात्रियों में सबसे महान यात्री था।
    • इब्न बतूता को चीन के दरबार में राजदूत बनाकर मुहम्मद तुगलक ने भेजा था।
यह भी देखे :- प्राचीन भारत में यात्रा के दौरान यूनानी रोमन लेखकों का विवरण

अन्य देशों के लेखक

  • तारानाथ
    • तारानाथ एक तिब्बत का लेखक था.
    • तारानाथ ने तंग्युर व कंग्युर नामक ग्रन्थ का लेखन किया था.
    • तारानाथ से भारतीय इतिहास के बारें में जानकारी मिलती है.
    • तारानाथ ने अपनी पुस्तक “बौद्ध धर्म का इतिहास” में बौद्ध धर्म से सम्बंधित जानकारी दी है.
  • मार्कोपोलो
    • मार्कोपोलो 13 वी शताब्दी के अंत में पांड्य देश की यात्रा पर आया था.
    • इसका विवरण इतिहास पांड्य इतिहास के अध्ययन के लिए उपयोगी है.
यह भी देखे :- बौद्ध साहित्य क्या है | What is Buddhist Literature

अरबी लेखकों का विवरण FAQ

Q 2. अलबरुनी कहाँ का रहने वाला था?

Ans अलबरुनी ख्वारिज्म/खीव [आधुनिक तुर्कमेनिस्तान] का रहने वाला था.

Q 3. अलबरुनी की भारत के बारें अरबी में लिखी गई कृति कौनसी है?

Ans अलबरुनी की भारत के बारें अरबी में लिखी गई कृति “किताब-उल-हिन्द” है.

Q 4. पृथ्वी की त्रिज्या मापने का सूत्र किसने निकला था?

Ans पृथ्वी की त्रिज्या मापने का सूत्र अलबरुनी ने कला था.

Q 6. इब्न बतूता के द्वारा लिखित उसका यात्रा वृतांत किस भाषा में लिखा गया है?

Ans इब्न बतूता के द्वारा लिखित उसका यात्रा वृतांत अरबी भाषा में लिखा गया है.

Q 7. इब्न बतूता के लिखा गए उसके यात्रा वृतांत को क्या कहा जाता है?

Ans इब्न बतूता के लिखा गए उसके यात्रा वृतांत को “रिहेला” कहा जाता है.

Q 8. इब्न बतूता का पूरा नाम क्या था?

Ans इब्न बतूता का पूरा नाम मुहम्मद बिन अब्दुल्ला इब्न बतूता था.

Q 9. इब्न बतूता को चीन के दरबार में राजदूत बनाकर किसने भेजा था?
See also  बौद्ध धर्म के नियम | rules of Buddhism

Ans इब्न बतूता को चीन के दरबार में राजदूत बनाकर मुहम्मद तुगलक ने भेजा था.

Q 10. तारानाथ एक कहाँ का लेखक था?

Ans तारानाथ एक तिब्बत का लेखक था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- जैन साहित्य क्या है | What is Jain Literature

केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment