मध्यकालीन स्त्रियों की दशा

मध्यकालीन स्त्रियों की दशा | राजस्थान की स्त्रियों ने भी देश के इतिहास में प्रशंसनीय कार्य किए। वराहामित्र के अनुसार राजस्थान की स्त्रियों को जन्म से लेकर मृत्यु तक पुरुषों पर आश्रित रहना पड़ता था

मध्यकालीन स्त्रियों की दशा

राजस्थान की स्त्रियों ने भी देश के इतिहास में प्रशंसनीय कार्य किए। वराहामित्र के अनुसार राजस्थान की स्त्रियों को जन्म से लेकर मृत्यु तक पुरुषों पर आश्रित रहना पड़ता था। परन्तु फिर भी स्त्रियों ने जौहर और सती का जो शौर्य समय-समय पर दिखाया उससे विदेशी विद्वान् भी इतने अधिक प्रभावित हुए कि उन्होंने राजपूत-स्त्रियों को ऐतिहासिक गाथाओं की आत्मा बना दिया। उनकी गौरव-गाथाएँ चारणों और भाटों द्वारा सदा गाई जाती रही हैं।

यह भी देखे :- मध्यकालीन सामाजिक स्थिति
मध्यकालीन स्त्रियों की दशा
मध्यकालीन स्त्रियों की दशा
यह भी देखे :- मध्यकालीन प्रमुख लाग-बाग

‘हमीर महाकाव्य’ के अनुसार राजस्थान की स्त्रियाँ कानों में कुण्डल और ललाट पर कस्तूरी-तिलक, नाक में काँटा, गले में नेकलेस, पाँवों में चम्पक (पायल), करधनी पर चाँद की तगड़ी आदि पहनती थी। इस वेशभूषा ने, जिसका आधार स्तम्भ घघरी, चोली और ओढ़नी था, राजस्थान की नारियों को साहित्य में काल्पनिक सौन्दर्य का प्रतीक बना दिया है।

See also  राव शत्रुशाल हाड़ा

मुसलमानों के सम्पर्क के साथ-साथ इस प्रदेश की स्त्रियों ने कुछ नए ढंग के आभूषण पहनना भी प्रारंभ कर दिया। हरिभद्र और न्यायचन्द्र सूरी की कृतियों में उन आभूषणों का वर्णन मिल जाता है। अंगूठी, नेकलेस, कुण्डल यहां के पुरुषों की वेशभूषा में भी सम्मिलित थे।

यह भी देखे :- मध्यकालीन कृषक वर्ग

मध्यकालीन स्त्रियों की दशा FAQ

Q 1. वराहामित्र के अनुसार राजस्थान की स्त्रियों को जन्म से लेकर मृत्यु तक किस पर आश्रित रहना पड़ता था?

Ans – वराहामित्र के अनुसार राजस्थान की स्त्रियों को जन्म से लेकर मृत्यु तक पुरुषों पर आश्रित रहना पड़ता था.

See also  तराइन के युद्ध
Q 2. ‘हमीर महाकाव्य’ के अनुसार राजस्थान की स्त्रियाँ कौन-कौनसे आभूषण पहनती थी?

Ans – ‘हमीर महाकाव्य’ के अनुसार राजस्थान की स्त्रियाँ कानों में कुण्डल और ललाट पर कस्तूरी-तिलक, नाक में काँटा, गले में नेकलेस, पाँवों में चम्पक (पायल), करधनी पर चाँद की तगड़ी आदि पहनती थी.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- मध्यकालीन कर व्यवस्था

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment