चोल राजवंश | Chola Dynasty

चोल राजवंश | Chola Dynasty | 9 वी शतब्दी में चोल वंश पल्लव वंश के ध्वंसावशेष पर स्थापित हुआ था. इस वंश के संथापक विजयालय थे

चोल राजवंश क्या है | Chola Dynasty

9 वी शतब्दी में चोल वंश पल्लव वंश के ध्वंसावशेष पर स्थापित हुआ था. इस वंश के संथापक विजयालय थे. चोल वंश की राजधानी तांजाय थी [तंजौर, तंजावूर] . तंजावूर का वास्तुकार कुंजरमल्लन राजराज पेरूथच्चन था.

विजयालय ने नरकेसरी की उपाधि धारण की थी और निशुम्भसूदनी देवी का मंदिर बनवाया था. पल्लवों पर विजय पाने के उपरांत आदित्य प्रथम ने कोदंडराम की उपाधि धारण की थी.

यह भी देखे :- पल्लव राजवंश | Pallava dynasty

तक्कोलम युद्ध में राष्ट्रकूट नरेश कृष्ण 3 ने परातंक को पराजित किया था. इस युद्ध में परातंक का बड़ा लड़का राजादित्य मारा गया था.

राजराज प्रथम ने श्रीलंका पर आक्रमण | वहां के राजा महिम 5 को भागकर श्रीलंका के दक्षिण जिला रोहण में शरण लेनी पड़ी थी. राजराज प्रथम श्रीलंका के विजित प्रदेशों में चोल साम्राज्य का एक नया प्रान्त मुम्ड़िचोलमंडल बनाया था. राजराज 1 शैव धर्म का अनुनायी था. इसने तंजौर में राजराजेश्वर का शिव मंदिर बनाया था.

चोल राजवंश | Chola Dynasty
चोल राजवंश | Chola Dynasty

चोल साम्राज्य का सर्वाधिक विस्तार राजेंद्र प्रथम के शासनकाल में हुआ था. बंगाल के पाल शासक महिपाल को पराजित करने के बाद राजेंद्र प्रथम ने गंगैकोंडचोल की उपाधि धारण की व नवीन राजधानी गंगैकोंड चोलपुरम के निकट चोलगंगम नामक विशाल तालाब का निर्माण करवाया था. गजनी का सुल्तान महमूद राजेंद्र प्रथम का समकालीन था.

यह भी देखे :- हर्षवर्धन का परिचय तथा उसकी शासन व्यवस्था

चोल साम्राज्य में भूमि के प्रकार

  1. वेल्लनवगाई : गैर ब्राह्मण किसान स्वामी की भूमि
  2. ब्रह्मदेय : ब्राह्मणों को उपहार में दी गई भूमि
  3. शालाभोग : किसी विद्यालय के रख-रखाव की भूमि
  4. देवदान : मंदिर को उपहार में दी गई भूमि
  5. पाल्लिच्चंदम : जैन संस्थानों को दी गई भूमि

राजेंद्र 2 ने प्रकेसरी की एवं वीरराजेन्द्र ने राजकेसरी की उपाधि धारण की थी. चोल वंश का अंतिम राजा राजेंद्र 3 था. चोलों व पश्चिमी चालुक्यों के बीच शांति सत्यापित करने में गोवा के कदम्ब शासक जयकेस प्रथम ने मध्यस्थ की भूमिका निभाई थी.

विक्रम चोल अकाल व आभाव से ग्रस्त गरीब जनता से राजस्व वसूल कर चिदंबरम विस्तार करवा रहा था. कलोतुंग 2 ने चिदंबरम मंदिर में स्थित गोविन्दराज विष्णु की मूर्ति को समुद्र में फेकवा दिया था. कालांतर में वैष्णव आचार्य रामानुजाचार्य ने उक्त मूर्ति का पुनरुद्धार किया व उसे तिरुपति के मंदिर में प्राण प्रतिष्ठित किया था.

यह भी देखे :- वाकाटक राजवंश | Vakataka Dynasty

चोल राजवंश क्या है FAQ

Q 1. चोल वंश की स्थापना कब हुई थी?

Ans चोल वंश की स्थापना 9 वी शताब्दी में हुई थी.

Q 2. चोल वंश की स्थापना कब हुई थी?

Ans चोल वंश की स्थापना विजयालय ने की थी.

Q 3. चोल वंश की राजधानी कहाँ थी?

Ans चोल वंश की राजधानी तांजाय [तंजौर, तंजावूर] थी.

Q 4. तंजावूर का वास्तुकार कौन था?

Ans तंजावूर का वास्तुकार कुंजरमल्लन राजराज पेरूथच्चन था.

Q 5. विजयालय ने कौनसी उपाधि धारण की थी?

Ans विजयालय ने नरकेसरी की उपाधि धारण की थी.

Q 6. निशुम्भसूदनी देवी का मंदिर किसने बनवाया था?

Ans विजयालय निशुम्भसूदनी देवी का मंदिर बनवाया था.

Q 7. पल्लवों पर विजय पाने के उपरांत आदित्य प्रथम ने कौनसी उपाधि धारण की थी.

Ans पल्लवों पर विजय पाने के उपरांत आदित्य प्रथम ने कोदंडराम की उपाधि धारण की थी.

Q 8. राजराज 1 किस धर्म का अनुनायी था?

Ans राजराज 1 शैव धर्म का अनुनायी था.

Q 9. तंजौर में राजराजेश्वर का शिव मंदिर किसने बनवाया था?

Ans तंजौर में राजराजेश्वर का शिव मंदिर राजराज 1 बनाया था.

Q 10. चोल साम्राज्य का सर्वाधिक विस्तार किसके शासनकाल में हुआ था?

Ans चोल साम्राज्य का सर्वाधिक विस्तार राजेंद्र प्रथम के शासनकाल में हुआ था.

Q 11. बंगाल के पाल शासक महिपाल को पराजित करने के बाद राजेंद्र प्रथम ने कौनसी उपाधि धारण की

Ans बंगाल के पाल शासक महिपाल को पराजित करने के बाद राजेंद्र प्रथम ने गंगैकोंडचोल की उपाधि धारण की थी.

Q 12. गजनी का सुल्तान महमूद किस चोल राजा का समकालीन था?

Ans गजनी का सुल्तान महमूद राजेंद्र प्रथम का समकालीन था.

Q 13. राजेंद्र 2 ने कौनसी उपाधि धारण की थी?

Ans राजेंद्र 2 ने प्रकेसरी की उपाधि धारण की थी.

Q 14. वीरराजेन्द्र ने कौनसी उपाधि धारण की थी?

Ans वीरराजेन्द्र ने राजकेसरी की उपाधि धारण की थी.

Q 15. चोल वंश का अंतिम राजा कौन था?

Ans चोल वंश का अंतिम राजा राजेंद्र 3 था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- गुप्त काल की गुफाएं और रचनाएं

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published.