रणथम्भौर का चौहान राजवंश

रणथम्भौर का चौहान राजवंश | कुतुबुद्दीन ऐबक ने गोविंदराज से अजमेर लेकर उसे रणथम्भौर का राज्य प्रदान किया। रणथम्भौर में चौहान वंश की स्थापना 1194 ई. में पृथ्वीराज तृतीय के पुत्र गोविन्दराज ने की थी

रणथम्भौर का चौहान राजवंश

कुतुबुद्दीन ऐबक ने पृथ्वीराज चौहान के पुत्र गोविंदराज से अजमेर लेकर उसे रणथम्भौर का राज्य प्रदान किया। रणथम्भौर में चौहान वंश की स्थापना 1194 ई. (12 वीं सदी) में पृथ्वीराज तृतीय के पुत्र गोविन्दराज ने की थी। गोविन्दराज की यहाँ पर चौहान वंश स्थापना करने में कुतुबुद्दीन ऐबक ने सहायता की थी।

यह भी देखे :- पृथ्वीराज का परिवार
रणथम्भौर के चौहान
रणथम्भौर का चौहान राजवंश
यह भी देखे :- पृथ्वीराज चौहान का मूल्यांकन

इस प्रकार गोविंदराज ही रणथम्भौर में चौहान वंश का संस्थापक है। उसके उत्तराधिकारी क्रमशः वल्लनदेव, प्रल्हादन और वीर नारायण थे। वीर नारायण के समय: दिल्ली सुल्तान इल्तुतमिश ने रणथम्भौर पर आक्रमण किया, जिसे वीर नारायण ने सफलतापूर्वक विफल कर दिया परन्तु सुल्तान ने उसका दिल्ली में वध करवा दिया।

See also  महाराजा गंगासिंह

इसके उत्तराधिकारी वागभट्ट ने दिल्ली सल्तनत से अपने राज्य की रक्षा की। उसके पुत्र जयसिंम्हा से नासिरुद्धीन महमूद द्वारा भेजी गई सेना को रणथम्भौर लेने में असफलता प्राप्त हुई।

यह भी देखे :- तराइन के युद्ध

रणथम्भौर का चौहान राजवंश FAQ

Q 1. कुतुबुद्दीन ऐबक ने गोविंदराज से अजमेर लेकर उसे कोनसा राज्य प्रदान किया?

Ans – कुतुबुद्दीन ऐबक ने गोविंदराज से अजमेर लेकर उसे रणथम्भौर का राज्य प्रदान किया था.

Q 2. रणथम्भौर में चौहान वंश की स्थापना कब हुई थी?

Ans – रणथम्भौर में चौहान वंश की स्थापना 1194 ई. में हुई थी.

See also  सेन राजवंश | Sen dynasty
Q 3. रणथम्भौर में चौहान वंश की स्थापना किसने की थी?

Ans – रणथम्भौर में चौहान वंश की स्थापना पृथ्वीराज तृतीय के पुत्र गोविन्दराज ने की थी.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- पृथ्वीराज चौहान (पृथ्वीराज तृतीय)

Follow on Social Media

See also  जौहर प्रथा

केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment