चालुक्य राजवंश | Chalukya dynasty

चालुक्य राजवंश | Chalukya dynasty | कल्याणी में चालुक्य वंश की स्थापना तैलप 2 ने की थी. चालुक्य वंश कल्याणी का संबसे प्रतापी शासक विक्रमादित्य 6 था

चालुक्य राजवंश | Chalukya dynasty

चालुक्य राजवंश [कल्याणी]

कल्याणी में चालुक्य वंश की स्थापना तैलप 2 ने की थी. चालुक्य वंश [कल्याणी] के प्रमुख निम्न हुए थे :- तैलप प्रथम, तैलप द्वितीय, विक्रमादित्य, जयसिंह, सोमेश्वर, सोमेश्वर द्वितीय, विक्रमादित्य 6, सोमेश्वर 3, तैलप 3 |

सोमेश्वर प्रथम ने मान्यखेट से राजधानी हटाकर कल्याणी [कर्नाटक] को बनाया था. चालुक्य वंश कल्याणी का संबसे प्रतापी शासक विक्रमादित्य 6 था. विल्हण व विज्ञानेश्वर विक्रमादित्य 6 के दरबार में रहते थे.

मिताक्षरा नामक ग्रन्थ की रचना महान विधिवेत्ता विज्ञानेश्वर न की थी. विक्रमांकदेवचरित की रचना विल्हण ने की थी. इसमें विक्रमादित्य 6 के जीवन पर प्रकाश डाला गया है.

यह भी देखे :- राष्ट्रकूट वंश | Rashtrakuta dynasty 

चालुक्य वंश [वातापी]

जयसिंह ने वातापी के चालुक्य वंश की स्थापना की थी. जिसकी राजधानी वातापी [बीजापुर के निकट] इस वंश के प्रमुख शासक निम्न थे :- पुलकेशिन प्रथम, किर्तिवार्मन, पुलकेशिन 2, विक्रमादित्य, विनयादित्य एवं विजयादित्य |

महाकूट स्तंभ लेख से प्रमाणित होता है की पुलकेशिन 2 ने बहु सुवर्ण एवं अग्निष्टोम का यज्ञ संपन्न करवाया था. जिनेन्द्र का मेगुती मंदिर पुलकेशिन 2 ने बनवाया था.

चालुक्य राजवंश | Chalukya dynasty
Chalukya dynasty

पुलकेशिन 2 ने हर्षवर्धन को हराकर परमेश्वर की उपाधि धारण की थी. इसने दक्षिणापथेश्वर की उपाधि भी धारण की थी.

See also  धौलपुर का जाट राजवंश

पल्लव वंशी शासक नरसिंह वर्मन प्रथम ने पुलकेशिन 2 को लगभग 642 ई. में परास्त किया व उसकी राजधानी बादामी पर अधिकार कर लिया. संभवत इसी युद्ध में पुलकेशिन 2 मारा गया था. इसी विजय के बाद नरसिंह वर्मन ने वातापिकोड की उपाधि धारण की थी. एहोल अभिलेख का संबंध पुलकेशिन 2 से है.

यह भी देखे :- चोल राजवंश | Chola Dynasty

अजंता के एक गुहा चित्र में फारसी दूत मंडल को स्वागत करते हुए पुलकेशिन 2 को दिखाया गया है. वातापी का निर्माणकर्ता किर्तिवर्मन को माना जाता है. मालवा जीतने बाद विनयादित्य ने सकलोत्तरपथनाथ की उपाधि धारण की थी.

विक्रमादित्य के शासनकाल में ही अरबों ने दक्कन में आक्रमण किया था. इस आक्रमण का मुकाबला विक्रमादित्य के भतीजे पुलकेशी ने किया था. इस अभियान की सफलता पर विक्रमादित्य 2 ने इसे अवनिजनाश्रय की उपाधि प्रदान की थी.

विक्रमादित्य 2 की पत्नी लोकमहादेवी ने पट्टदकल में विरूपाक्षमहादेव मंदिर तथा उसकी दूसरी पत्नी त्रिलोक्य देवी ने त्रैलोकेश्वर मंदिर का निर्माण करवाया था.

इस वंश का अंतिम राजा किर्तिवर्मन द्वितीय था. इसे इसके सामंत दन्तिदुर्ग ने परास्त कर राष्ट्रकूट वंश की स्थापना की थी. एहोल को मंदिरों का शहर भी कहा जाता है.

चालुक्य वंश [बेंगी]

बेंगी के चालुक्य वंश का संस्थापक विष्णुवर्धन था. इसकी राजधानी बेंगी [आन्ध्र प्रदेश] में थी. इस वंश का सबसे प्रतापी राजा विजयादित्य तृतीय था, जिसका सेनापति पंडरंग था.

यह भी देखे :- चोल साम्राज्य की शासन व्यवस्था

चालुक्य राजवंश FAQ

Q 2. चालुक्य वंश का प्रमुख शासक कौन था?

Ans चालुक्य वंश [कल्याणी] के प्रमुख निम्न हुए थे :- तैलप प्रथम, तैलप द्वितीय, विक्रमादित्य, जयसिंह, सोमेश्वर, सोमेश्वर द्वितीय, विक्रमादित्य 6, सोमेश्वर 3, तैलप 3 |

Q 3. चालुक्य वंश कल्याणी का संबसे प्रतापी शासक कौन था?

Ans चालुक्य वंश कल्याणी का संबसे प्रतापी शासक विक्रमादित्य 6 था.

Q 4. विल्हण व विज्ञानेश्वर किस चालुक्य शासक के दरबार में रहते थे?

Ans विल्हण व विज्ञानेश्वर विक्रमादित्य 6 के दरबार में रहते थे.

Q 5. विक्रमांकदेवचरित की रचना किसने की थी?

Ans विक्रमांकदेवचरित की रचना विल्हण ने की थी.

Q 6. विक्रमांकदेवचरित में किसके जीवन पर प्रकाश डाला गया है?

Ans विक्रमांकदेवचरित में विक्रमादित्य 6 के जीवन पर प्रकाश डाला गया है.

Q 7. वातापी के चालुक्य वंश की स्थापना किसने की थी?

Ans जयसिंह ने वातापी के चालुक्य वंश की स्थापना की थी.

Q 8. वातापी के चालुक्य वंश की राजधानी कहाँ स्थित थी?

Ans वातापी के चालुक्य वंश की राजधानी वातापी थी.

Q 9. वातापी के चालुक्य वंश के प्रमुख शासक कौन-कौन हुए थे?

Ans वातापी के चालुक्य वंश के प्रमुख शासक निम्न थे :- पुलकेशिन प्रथम, किर्तिवार्मन, पुलकेशिन 2, विक्रमादित्य, विनयादित्य एवं विजयादित्य |

See also  गुर्जर प्रतिहार राजवंश | Gurjara Pratihara Dynasty
Q 10. जिनेन्द्र का मेगुती मंदिर किसने बनवाया था?

Ans जिनेन्द्र का मेगुती मंदिर पुलकेशिन 2 ने बनवाया था.

Q 11. वातापी का निर्माणकर्ता किसको माना जाता है?

Ans वातापी का निर्माणकर्ता किर्तिवर्मन को माना जाता है.

Q 12. विक्रमादित्य 2 की पत्नी लोकमहादेवी ने किस मंदिर का निर्माण करवाया था?

Ans विक्रमादित्य 2 की पत्नी लोकमहादेवी ने पट्टदकल में विरूपाक्षमहादेव मंदिर का निर्माण करवाया था.

Q 13. विक्रमादित्य 2 की पत्नी त्रिलोक्य देवी ने किस मंदिर का निर्माण करवाया था?

Ans विक्रमादित्य 2 की पत्नी त्रिलोक्य देवी ने त्रैलोकेश्वर मंदिर का निर्माण करवाया था.

Q 14. बेंगी के चालुक्य वंश का संस्थापक कौन था?

Ans बेंगी के चालुक्य वंश का संस्थापक विष्णुवर्धन था.

Q 15. बेंगी के चालुक्य वंश का सबसे प्रतापी शासक कौन था?

Ans बेंगी के चालुक्य वंश का सबसे प्रतापी राजा विजयादित्य तृतीय था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- पल्लव राजवंश | Pallava dynasty

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

2 thoughts on “चालुक्य राजवंश | Chalukya dynasty”

Leave a Comment