अंग्रेजों के मैसूर से संबंध | British relations with Mysore

अंग्रेजों के मैसूर से संबंध | British relations with Mysore | 1761 ई. में हैदर अली मैसूर का शासक बना था. हैदर अली की मृत्यु 1782 ई. में द्वितीय आंग्ला-मैसूर युद्ध केर दौरान हो गई थी. हैदर अली का उत्तराधिकारी टीपू सुल्तान था.

अंग्रेजों के मैसूर से संबंध | British relations with Mysore

1761 ई. में हैदर अली मैसूर का शासक बना था. हैदर अली की मृत्यु 1782 ई. में द्वितीय आंग्ला-मैसूर युद्ध केर दौरान हो गई थी. हैदर अली का उत्तराधिकारी टीपू सुल्तान था. 1787 ई. में टीपू सुल्तान ने अपनी राजधानी श्रीरंगपट्टनम में पादशाह की उपाधि धारण की थी.

यह भी देखे :- बंगाल पर अंग्रेजों का आधिपत्य | British occupation of Bengal

टीपू सुल्तान ने अपनी राजधानी श्रीरंगपट्टनम में स्वतंत्रता का वृक्ष लगवाया व जैकोबिन क्लब का सदस्य बना था.

अंग्रेजों के मैसूर से संबंध | British relations with Mysore
अंग्रेजों के मैसूर से संबंध | British relations with Mysore

आंग्ल मैसूर युद्ध :-

  • प्रथम आंग्ल मैसूर युद्ध :- यह युद्ध 1767-69 ई. में हुआ था. इस युद्ध में मद्रास की संधि हुई थी. यह संधि 1769 ई. में हुई थी.
  • द्वितीय आंग्ल मैसूर युद्ध :- यह युद्ध 1780-84 ई. में हुआ था. इस युद्ध में अंग्रेजी गर्वनर जनरल वारेन हेस्टिंग था. इस युद्ध में मंगलोर की संधि हुई थी. यह संधि 1784 ई. में हुई थी.
  • तृतीय आंग्ल मैसूर युद्ध :- यह युद्ध 1790-92 ई. में हुआ था. इस युद्ध में अंग्रेजी गर्वनर जनरल कार्नवालिस था. इस युद्ध में श्रीरंगपट्टनम की संधि हुई थी. यह संधि 1792 ई. में हुई थी.
  • चतुर्थ आंग्ल मैसूर युद्ध :- यह युद्ध 1799 ई. में हुआ था. इस युद्ध में अंग्रेजी गर्वनर जनरल लार्ड वेलेजली था.
यह भी देखे :- स्वतंत्र प्रांतीय राज्य गुजरात व मेवाड़  
नोट :- इस आंग्ल मैसूर युद्ध में मराठा, हैदराबाद के निजाम व अंग्रेजों की सयुंक्त सेना मैसूर के खिलाफ लड़ रही थी. 

टीपू की मृत्यु श्रीरंगपट्टम की आखिरी युद्ध यानि चतुर्थ आंग्ल मैसूर युद्ध के दौरान 1799 ई. में हो गई थी. टीपू सुल्तान को शेर-ए-मैसूर कहा जाता था. टीपू सुल्तान के राजसी झंडे पर शेर की तस्वीर होती थी.

1760 ई. में वांडीवास का युद्ध हुआ था, जिसमें अंग्रेजों ने सर आयरकूट के नेतृत्व में, लाली के नेतृत्व वाली फ़्रांसिसी सेना को पराजित किया था.

यह भी देखे :- स्वतंत्र प्रांतीय राज्य बंगाल व मालवा 

अंग्रेजों के मैसूर से संबंध FAQ

Q 1. मैसूर का शासक कौन बना था?

Ans हैदर अली मैसूर का शासक बना था.

Q 2. मैसूर का शासक कब बना था?

Ans 1761 ई. मैसूर का शासक बना था.

Q 3. हैदर अली की मृत्यु कब हुई थी?

Ans हैदर अली की मृत्यु 1782 ई. में हुई थी.

Q 4. हैदर अली की मृत्यु किस युद्ध के दौरान हो गई थी?

Ans हैदर अली की मृत्यु द्वितीय आंग्ला-मैसूर युद्ध केर दौरान हो गई थी.

Q 5. हैदर अली का उत्तराधिकारी कौन था?

Ans हैदर अली का उत्तराधिकारी टीपू सुल्तान था.

Q 6. टीपू सुल्तान ने पादशाह की उपाधि कब धारण की थी?

Ans 1787 ई. में टीपू सुल्तान ने पादशाह की उपाधि धारण की थी.

Q 7. टीपू सुल्तान ने पादशाह की उपाधि कहाँ धारण की थी?

Ans टीपू सुल्तान ने अपनी राजधानी श्रीरंगपट्टनम में पादशाह की उपाधि धारण की थी.

Q 8. प्रथम आंग्ल मैसूर युद्ध कब हुआ था?

Ans प्रथम आंग्ल मैसूर युद्ध 1767-69 ई. में हुआ था.

Q 9. द्वितीय आंग्ल मैसूर युद्ध कब हुआ था?

Ans द्वितीय आंग्ल मैसूर युद्ध 1780-84 ई. में हुआ था.

Q 10. तृतीय आंग्ल मैसूर युद्ध कब हुआ था?

Ans तृतीय आंग्ल मैसूर युद्ध 1790-92 ई. में हुआ था.

Q 11. तृतीय आंग्ल मैसूर युद्ध कब हुआ था

Ans तृतीय आंग्ल मैसूर युद्ध 1790-92 ई. में हुआ था.

Q 12. टीपू की मृत्यु कब व किस युद्ध में हुई थी?

Ans टीपू की मृत्यु श्रीरंगपट्टम की आखिरी युद्ध यानि चतुर्थ आंग्ल मैसूर युद्ध के दौरान 1799 ई. में हो गई थी.

Q 13. टीपू सुल्तान को किस नाम से भी जाना जाता था?

Ans टीपू सुल्तान को शेर-ए-मैसूर के नाम से भी जाना जाता था.

Q 14. टीपू सुल्तान के राजसी झंडे पर किसकी तस्वीर होती थी?

Ans टीपू सुल्तान के राजसी झंडे पर शेर की तस्वीर होती थी.

Q 15. वांडीवास का युद्ध कब हुआ था?

Ans 1760 ई. में वांडीवास का युद्ध हुआ था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- स्वतंत्र प्रांतीय राज्य जौनपुर व कश्मीर 

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published.