बंगाल पर अंग्रेजों का आधिपत्य | British occupation of Bengal

बंगाल पर अंग्रेजों का आधिपत्य | British occupation of Bengal | मुगल साम्राज्य के अंतर्गत आने वाले प्रान्तों में बंगाल सर्वाधिक संपन्न राज्य था. मुर्शिद कुली खां स्वतंत्र शासक था, किन्तु वह नियमित रूप से बादशाह को राजस्व भेजता था

बंगाल पर अंग्रेजों का आधिपत्य | British occupation of Bengal

मुर्शीद कुली खां ने अपनी राजधानी ढाका से मुर्शिदाबाद में स्थान्तरित की थी.

इसने इजारेदारी प्रथा प्रारंभ की तथा कृषकों को तकाबी ऋण प्रदान किया. इसका उत्तराधिकारी उसका दामाद शुजाउद्दीन हुआ था. 1740 ई. में गिरिया के युद्ध में सरफराज को मार कर बिहार के सर सूबेदार अलीवर्दी खां बंगाल का नवाब बना था. इसने अपने शासनकाल में मुगलों को राजस्व देना बंद कर दिया था. इसके शासनकाल में बंगाल इतना समृद्धिशील बन गया की बंगाल को भारत का स्वर्ग कहा जाने लगा. इसका उत्तराधिकारी इसका दामाद सिराजुद्दौल हुआ था.

यह भी देखे :- स्वतंत्र प्रांतीय राज्य गुजरात व मेवाड़

20 जून 1756 ई. को कालकोठरी की त्रासदी नामक एक घटना घटी. इस घटना के रचियता जेड. होलवेल के अनुसार नवाब सिराजुद्दौल ने 20 जून की रात में 146 व्यक्तियों को एक छोटी सी कोठारी में बंद कर दिया. अगले दिन सुबह 146 में से केवल 23 व्यक्ति जिन्दा बचे थे.

पलासी का युद्ध 23 जून 1757 ई. को अंग्रेजों के सेनापति रॉबर्ट क्लाइव व बंगाल के नवाब सिराजुद्दौल के बीच में हुआ था, जिसमें अपने सेनापति मीर जाफर की धोखाधड़ी के कारण पराजित हुआ व अंग्रेजों ने मीर जाफर को बंगाल का नवाब बनाया था.

पलासी की लड़ाई में मोहनलाल व मीर मदान के नेतृत्व में एक छोटी सेना टुकड़ी नवाब के वफादार रही थी. 
बंगाल पर अंग्रेजों का आधिपत्य | British occupation of Bengal
बंगाल पर अंग्रेजों का आधिपत्य | British occupation of Bengal
यह भी देखे :- स्वतंत्र प्रांतीय राज्य बंगाल व मालवा  

क्लाइव के हाथों की कठपुतली नवाब मीर जाफर को अंग्रेजों ने 1760 ई. में हटाकर उसके दामाद मीर कासिम को बंगाल का नवाब बनाया था. मीर कासिम ने अपनी राजधानी मुर्शिदाबाद से मुंगेर में स्थानांतरित की थी.

बंगाल की राजधानी का क्रम :- 1. ढाका 2. मुर्शिदाबाद 3. मुंगेर

बक्सर का युद्ध 1764 ई. में अंग्रेजों एवं मीर कासिम, अवध के नवाब शुजाउद्दौल व मुगल सम्राट शाह आलम द्वितीय के मध्य हुआ था. इस युद्ध में भी अंग्रेज विजयी हुए थे. इस युद्ध में अंग्रेज सेनापति हेक्टर मुनरो था.

यह भी देखे :- स्वतंत्र प्रांतीय राज्य जौनपुर व कश्मीर  

बंगाल पर अंग्रेजों का आधिपत्य FAQ

Q 1. मुगल साम्राज्य के अंतर्गत आने वाले प्रान्तों में सर्वाधिक संपन्न राज्य कौनसा था?

Ans मुगल साम्राज्य के अंतर्गत आने वाले प्रान्तों में बंगाल सर्वाधिक संपन्न राज्य था.

Q 2. बंगाल का स्वतंत्र शासक कौन था?

Ans मुर्शिद कुली खां बंगाल स्वतंत्र शासक था.

Q 3. मुर्शिद कुली खां किसे नियमित रूप से राजस्व भेजता था?

Ans मुर्शिद कुली खां नियमित रूप से बादशाह को राजस्व भेजता था.

Q 4. मुर्शीद कुली खां ने अपनी राजधानी ढाका से कहाँ स्थान्तरित की थी?

Ans मुर्शीद कुली खां ने अपनी राजधानी ढाका से मुर्शिदाबाद में स्थान्तरित की थी.

Q 5. मुर्शीद कुली खां का उत्तराधिकारी उकौन था?

Ans मुर्शीद कुली खां का उत्तराधिकारी उसका दामाद शुजाउद्दीन हुआ था

Q 6. गिरिया का युद्ध कब हुआ था?

Ans 1740 ई. में गिरिया का युद्ध हुआ था.

Q 7. गिरिया किन किओं के मध्य हुआ था?

Ans गिरिया के युद्ध में सरफराज व बिहार के सर सूबेदार अलीवर्दी खां के मध्य हुआ था.

Q 8. गिरिया के युद्ध का क्या परिणाम निकला था?

Ans गिरिया के युद्ध में सरफराज को मार दिया गया था.

Q 9. गिरिया के युद्धके बाद बंगाल का नवाब कौन था?

Ans गिरिया के युद्ध के बिहार के सर सूबेदार अलीवर्दी खां बंगाल का नवाब बना था.

Q 10. बंगाल को भारत का स्वर्ग किसके शासनकाल में कहा जाने लगा था?

Ans सर सूबेदार अलीवर्दी खां के शासनकाल में बंगाल को भारत का स्वर्ग कहा जाने लगा था.

Q 11. सर सूबेदार अलीवर्दी खां का उत्तराधिकारी कौन था?

Ans सर सूबेदार अलीवर्दी खां का उत्तराधिकारी इसका दामाद सिराजुद्दौल हुआ था.

Q 12. कालकोठरी की त्रासदी नामक घटना कब घटी थी?

Ans 20 जून 1756 ई. को कालकोठरी की त्रासदी नामक घटना घटी थी.

Q 13. पलासी का युद्ध कब व किन-किन के मध्य हुआ था?

Ans पलासी का युद्ध 23 जून 1757 ई. को अंग्रेजों के सेनापति रॉबर्ट क्लाइव व बंगाल के नवाब सिराजुद्दौल के बीच में हुआ था.

Q 14. अंग्रेजों ने बंगाल का नवाब किसे बनाया था?

Ans अंग्रेजों ने मीर जाफर को बंगाल का नवाब बनाया था.

Q 15. बक्सर का युद्ध कब व किन-किन के मध्य हुआ था?

Ans बक्सर का युद्ध 1764 ई. में अंग्रेजों एवं मीर कासिम, अवध के नवाब शुजाउद्दौल व मुगल सम्राट शाह आलम द्वितीय के मध्य हुआ था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- भक्ति आन्दोलन | Bhakti Movement

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published.