पाटन का युद्ध

पाटन का युद्ध | पाटन का युद्ध 20 जून, 1790 को महादजी सिंधिया एवं राजपूत शासकों (जयपुर एवं मारवाड् के मध्य हुआ। इससे पूर्व भी इनके मध्य तुंगा का युद्ध हुआ था

पाटन का युद्ध

पाटन युद्ध 20 जून, 1790 को महादजी सिंधिया एवं राजपूत शासकों (जयपुर एवं मारवाड् के मध्य हुआ। इससे पहले भी 28 जुलाई, 1787 को दौसा के पास तूंगा नामक स्थान पर मराठा सेनानायक महादजी सिंधिया और जयपुर के शासक सवाई प्रतापसिंह के बीच तूंगा युद्ध हुआ था. जिसमें महादजी सिंधिया की पराजय हुई थी.

यह भी देखे :- तुंगा का युद्ध
पाटन का युद्ध
पाटन युद्ध
यह भी देखे :- सवाई प्रताप सिंह

सिंधिया की सेना का नेतृत्व लकवा दादा और डी. बोइन ने किया, जबकि अफगान नेता इस्माइल बेग राजपूतों के साथ था। इस युद्ध में राजपूतों की पराजय हुई। युद्ध का प्रमुख कारण महादजी सिंधिया की तूंगा के युद्ध के कारण खोई हुई प्रतिष्ठा को पुनः प्राप्त करना था।

पाटन के युद्ध के बाद सिधिया की प्रतिष्ठा पुनःस्थापित हो गई तथा मराठों ने अजमेर पर अधिकार कर लिया तथा राजपूत शासकों से एक बड़ी धनराशि हर्जाने के रूप में वसूल की।

यह भी देखे :- महाराजा सवाई माधोसिंह प्रथम

पाटन का युद्ध FAQ

Q 1. पाटन युद्ध कब हुआ था?

Ans – पाटन युद्ध 20 जून, 1790 ई. को हुआ था.

Q 2. पाटन युद्ध किन-किन के मध्य हुआ था?

Ans – पाटन युद्ध महादजी सिंधिया एवं राजपूत शासकों (जयपुर एवं मारवाड़) के मध्य हुआ था.

Q 3. तुंगा का युद्ध कब, कहाँ व किन-किन के मध्य हुआ था?

Ans – तुंगा का युद्ध 28 जुलाई, 1787 को दौसा के पास तूंगा नामक स्थान पर मराठा सेनानायक महादजी सिंधिया और जयपुर के शासक सवाई प्रतापसिंह के बीच में हुआ था.

Q 4. पाटन के युद्ध का क्या कारण था?

Ans – पाटन के युद्ध का कारण महादजी सिंधिया की तूंगा के युद्ध के कारण खोई हुई प्रतिष्ठा को पुनः प्राप्त करना था.

Q 5. पाटन युद्ध में किसकी विजय हुई थी?

Ans – पाटन युद्ध में महादजी सिंधिया की विजय हुई थी.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- बगरु का युद्ध

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *