मालपुरा (टोंक) का युद्ध

मालपुरा (टोंक) का युद्ध | मालपुरा की लड़ाई मार्च, 1800 में जयपुर और सिंधिया के बीच उत्पन्न संकट के कारण हुई। धन के दबाव को लेकर राजपूतों एवं मराठों में मतभेद गहरा गया था

मालपुरा (टोंक) का युद्ध

मालपुरा की लड़ाई मार्च, 1800 में जयपुर और सिंधिया के बीच उत्पन्न संकट के कारण हुई। धन के दबाव को लेकर राजपूतों एवं मराठों में मतभेद गहरा गया था। धन को लेकर मराठा सरदारों दौलतराव सिंधिया एवं होल्कर के मध्य मतभेद उत्पन्न हो गया था। जयपुर के सवाई प्रतापसिंह ने अपने शत्रु के आंतरिक संघर्ष का फायदा उठाने का प्रयास किया जिसके कारण मालपुरा का संघर्ष हुआ।

यह भी देखे :- पाटन का युद्ध
मालपुरा (टोंक) का युद्ध
मालपुरा (टोंक) का युद्ध
यह भी देखे :- तुंगा का युद्ध

मार्च, 1800 में प्रतापसिंह ने खुले तौर पर घन की मांग को खारिज कर दिया जो 1791 ई की संधि से तय किया गया था। सवाई प्रतापसिंह ने पूरी तैयारी के साथ अपनी सेना का कैम्प सांगानेर में लगाया तो दूसरी ओर लकवा दादा ने अपनी टुकड़ी मालपुरा में तैनात की। उसकी सेना की दो ब्रिगेड डी बोइन (De Boign’s) तथा 6 बटालियन पोल्मन पोमन (Pohiman) द्वारा निर्देशित की गई।

See also  महाराजा गजसिंह

6 बटालियन होल्कर के पास थी जिसमें 16000 सेना थी। जयपुर की सेना में 18 बटालियन भी, रोहिल्ला एवं जोधपुर के सवाईसिंह के पास 27,000 सेना थी। मराठा सेना सोहाद्रा नदी तट पर हिण्डोली के निकट आई। 16 अप्रैल 1800 को जयपुर सेना ने उस पर धावा बोला, जिसे मालपुरा (टोंक) युद्ध के नाम से जाना जाता है। जिसमें जयपुर पक्ष की जीत हुई।

यह भी देखे :- सवाई प्रताप सिंह

मालपुरा (टोंक) का युद्ध FAQ

Q 1. मालपुरा की लड़ाई किस कारण हुई थी?

Ans – मालपुरा की लड़ाई मार्च, 1800 में जयपुर और सिंधिया के बीच उत्पन्न संकट के कारण हुई थी.

See also  यशपाल : गुर्जर-प्रतिहार वंश
Q 2. मालपुरा की लड़ाई कब हुई थी?

Ans – मालपुरा की लड़ाई 16 अप्रैल 1800 ई. को हुई थी.

Q 3. मालपुरा की लड़ाई किन-किन के मध्य हुई थी?

Ans – मालपुरा की लड़ाई जयपुर के शासक प्रतापसिंह व मराठों के मध्य हुई थी.

Q 4. मालपुरा की लड़ाई में किसकी विजय हुई थी?

Ans – मालपुरा की लड़ाई में जयपुर पक्ष की विजय हुई थी.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- महाराजा सवाई माधोसिंह प्रथम

Follow on Social Media

See also  कछवाहा राजवंश

केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment