बारी का युद्ध

बारी का युद्ध | सुल्तान ने ‘मियाँ हुसैन फरमूली’ तथा ‘मियाँ माखन’ के साथ महती सेना को राणा के विरुद्ध पहली पराजय का बदला लेने भेजा

बारी का युद्ध

सुल्तान ने ‘मियाँ हुसैन फरमूली’ तथा ‘मियाँ माखन’ के साथ महती सेना को राणा सांगा के विरुद्ध पहली पराजय का बदला लेने भेजा। फारसी तवारीखों में मियाँ हुसैन का इस अवसर पर राणा से मिल जाना और फिर मियाँ माखन के पत्र से सुल्तान की सेना का सहयोगी बनना, आदि वर्णन लिखा है। इनमें इस युद्ध में राणा की हार होना भी उल्लिखित है, परन्तु बाबर ने धौलपुर की लड़ाई में राजपूतों की विजय होना लिखा है।

यह भी देखे :- खातोली का युद्ध
बारी का युद्ध
बारी युद्ध
यह भी देखे :- गागरोण का युद्ध

महाराणा सांगा ने धौलपुर के पास ‘बारी’ नामक स्थान पर 1518 ई. में इब्राहिम लोदी के सेनानायकों को पराजित किया। इस युद्ध के परिणामस्वरूप लोदी सुल्तान की शक्तिहीनता स्पष्ट हो गई और राणा सांगा की महत्त्वाकांक्षा को बल मिला। इन विजयों से उत्तरी भारत का नेतृत्व भी उसे प्राप्त हो गया।

See also  अर्णोराज चौहान

दिल्ली के शासक को परास्त करने से राजनीतिक धुरी मेवाड़ की ओर घूम गयी और सभी शक्तियाँ देशी और विदेशी, सांगा की शक्ति को मान्यता देने लगी। मेवाड की शक्ति की यह चरम सीमा थी।

यह भी देखे :- राणा सांगा के गुजरात से संघर्ष

बारी का युद्ध FAQ

Q 1. बारी का युद्ध कब हुआ था?

Ans – इस युद्ध 1518 ई. में हुआ था.

Q 2. यह युद्ध किन-किन के मध्य हुआ था?

Ans – यह युद्ध महाराणा सांगा और इब्राहिम लोदी के सेनानायकों के मध्य हुआ था.

See also  खातोली का युद्ध
Q 3. यह युद्ध कहाँ हुआ था?

Ans – यह युद्ध धौलपुर के पास ‘बारी’ नामक स्थान पर हुआ था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- राणा कुंभा के दरबारी साहित्यकार

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment