भारत में ब्रिटिश कंपनियों का आगमन part 1

भारत में ब्रिटिश कंपनियों का आगमन part 1 | Arrival of British Companies in India | 17 मई 1498 ई. को वास्को डिगामा ने भारत के पश्चिमी तट पर स्थित कालीकट बंदरगाह पर पहुँच कर भारत व यूरोप के बीच नए समुद्री मार्ग की खोज की थी

भारत में ब्रिटिश कंपनियों का आगमन | Arrival of British Companies

17 मई 1498 ई. को वास्को डिगामा ने भारत के पश्चिमी तट पर स्थित कालीकट बंदरगाह पर पहुँच कर भारत व यूरोप के बीच नए समुद्री मार्ग की खोज की थी. इस यात्रा में वास्को डिगामा को गुजराती पथ प्रदर्शक अब्दुल मनीद ने सहयोग किया था.

यह भी देखे :- अंग्रेजों के मैसूर से संबंध 

1505 ई. में फ्रांसिस्को द अल्मेडा भारत में प्रथम पुर्तगाली वायसराय बन कर आय था. 1509 ई. में अलफांसो द अल्बुकर्क भारत में पुर्तगालियों का वायसराय बना था. इसने 1510 ई. में बीजापुर के युसूफ आदिल से गोवा को जीता था.

भारत में डच व पुर्तगालियों का आगमन | Arrival of Dutch and Portuguese in India
भारत में ब्रिटिश कंपनियों का आगमन
यह भी देखे :- बंगाल पर अंग्रेजों का आधिपत्य 

पुर्तगालियों ने अपनी पहली व्यापारिक कोठी कोचीन में खोली थी. दक्षिणी-पूर्वी तट पर पुर्तगालियों की एक मात्र बस्ती सन-थोमे थी. पुर्तगालियों के बाद भारत में डच लोग आए थे. पहला डच यात्री कार्नेलियन हाऊटमैन 1596 ई. में पूर्वी भारत के सुमात्रा पहुंचा था.

See also  1857 ई. की महान क्रांति

डचों ने भारत में अपनी प्रथम व्यापारिक कोठी मसूलीपट्टम में 1605 ई. में स्थापित की थी. डचों की दूसरी व्यापारिक कोठी पुलीकट में स्थापित हुई थी जहाँ उन्होंने अपने स्वर्ण सिक्के को ढाला व पुलीकट को ही समस्त गतिविधियों का केंद्र बनाया.

डचों ने भारत में प्रथम बार औद्योगिक वेतनभोगी रखे थे. डचों का भारत से अंतिम रूप से पतन 1759 ई. को अंग्रेजों व डचों के मध्य हुए वेदरा युद्ध से हुआ था.

यह भी देखे :- स्वतंत्र प्रांतीय राज्य गुजरात व मेवाड़ 

भारत में ब्रिटिश कंपनियों का आगमन part 1 FAQ

Q 1. भारत की खोज किसने की थी?

Ans भारत की खोज वास्को डिगामा ने की थी.

Q 2. भारत की खोज कब की गई थी?

Ans भारत की खोज 17 मई 1498 ई. को की गई थी.

Q 3. किस बंदरगाह पर पहुँच कर भारत व यूरोप के बीच नए समुद्री मार्ग की खोज की गई थी?

Ans भारत के पश्चिमी तट पर स्थित कालीकट बंदरगाह पर पहुँच कर भारत व यूरोप के बीच नए समुद्री मार्ग की खोज की थी.

See also  चार्ल्स मेटकॉफ | Charles Metcalf
Q 4. यात्रा में वास्को डिगामा का पथ प्रदर्शक कौन था?

Ans इस यात्रा में वास्को डिगामा का पथ प्रदर्शक गुजराती अब्दुल मनीद था.

Q 5. भारत में प्रथम पुर्तगाली वायसराय कौन बना था?

Ans फ्रांसिस्को द अल्मेडा भारत में प्रथम पुर्तगाली वायसराय बना था.

Q 6. भारत में प्रथम पुर्तगाली वायसराय कब बना था?

Ans 1505 ई. में भारत में प्रथम पुर्तगाली वायसराय बना था.

Q 7. अलफांसो द अल्बुकर्क भारत में पुर्तगालियों का वायसराय कब बना था?

Ans 1509 ई. में अलफांसो द अल्बुकर्क भारत में पुर्तगालियों का वायसराय बना था.

Q 8. युसूफ आदिल से गोवा को किसने जीता था?

Ans अलफांसो द अल्बुकर्क ने बीजापुर के युसूफ आदिल से गोवा को जीता था.

Q 9. युसूफ आदिल से गोवा को कब जीता गया था?

Ans युसूफ आदिल से गोवा को 1510 ई. में जीता गया था.

Q 10. पुर्तगालियों ने अपनी पहली व्यापारिक कोठी कहाँ खोली थी?

Ans पुर्तगालियों ने अपनी पहली व्यापारिक कोठी कोचीन में खोली थी.

Q 11. दक्षिणी-पूर्वी तट पर पुर्तगालियों की एक मात्र बस्ती कौनसी थी?

Ans दक्षिणी-पूर्वी तट पर पुर्तगालियों की एक मात्र बस्ती सन-थोमे थी.

See also  लॉर्ड लिनलिथगो | lord Linlithgow
Q 12. पुर्तगालियों के बाद भारत में कौनसे लोग आए थे?

Ans पुर्तगालियों के बाद भारत में डच लोग आए थे.

Q 13. पहला डच यात्री कौन, कब व कहाँ भारत में पहुंचा था?

Ans पहला डच यात्री कार्नेलियन हाऊटमैन 1596 ई. में पूर्वी भारत के सुमात्रा पहुंचा था.

Q 14. डचों ने भारत में अपनी प्रथम व्यापारिक कोठी कहाँ व कब स्थापित की थी?

Ans डचों ने भारत में अपनी प्रथम व्यापारिक कोठी मसूलीपट्टम में 1605 ई. में स्थापित की थी.

Q 15. डचों का भारत से अंतिम रूप से पतन कब व किस युद्ध से हुआ था?

Ans डचों का भारत से अंतिम रूप से पतन 1759 ई. को अंग्रेजों व डचों के मध्य हुए वेदरा युद्ध से हुआ था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- स्वतंत्र प्रांतीय राज्य बंगाल व मालवा

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment