अकबर का शासन काल part 2 | Akbar’s reign

अकबर का शासन काल part 2 | Akbar’s reign | अकबर के काल को हिंदी साहित्य का स्वर्णकाल माना जाता है | अकबर ने बीरबल को कविप्रिय व नरहरी को महापात्र की उपाधि प्रदान की थी

अकबर का शासन काल part 2 | Akbar’s reign

अकबर द्वारा जीते गए प्रदेश

क्र.प्रदेश शासक वर्ष मुग़ल सेनापति
1. मालवा बाज बहादुर 1561आधम खां व पीर मुहम्मद
2.चुनार अफगानों का शासन 1562अब्दुल्ला खां
3.गोंडवाना वीरनारायण व् दुर्गावती 1564आसफ खां
4.आमेर भारमल 1562स्वेच्छा से अधीनता स्वीकारी
5.मेड़ता जयमल 1562सरफुद्दीन
6.मेवाड़ उदय सिंह व राणा प्रताप 1576मान सिंह व् आसफ खां
7.रणथम्भौर सुरजनहाड़ा 1569अकबर व भगवानदास
8.कालिंजर रामचंद्र 1569मजनू खां काकशाह
9.मारवाड़ राव चंद्रसेन 1570स्वेच्छा से अधीनता स्वीकारी
10.जैसलमेर रावल हरिराय 1570स्वेच्छा से अधीनता स्वीकारी
11.बीकानेर कल्याणमल 1570स्वेच्छा से अधीनता स्वीकारी
12.गुजरात मुजफ्फर खां 3 1571सम्राट अकबर
13.बिहार व बंगाल दाउद खां 1574-76मुनीम खां खानखाना
14.काबुल हाकिम मिर्जा 1581मानसिंह व अकबर
15.कश्मीर युसूफ याकूब खां 1586भगवन दास व कासिम खां
16.उड़ीसा निसार खां 1592मान सिंह
17.सिंध जानी बेग 1593अब्दुर्रहीम खानखाना
18.बलूचिस्तान पन्नी अफगान 1595मेरे मासूम
19.कंधार मुजफ्फर हुसैन 1595शाह बेग
अकबर द्वारा जीते गए प्रदेश

दक्षिणी भारत

See also  सामंतों के विशेषाधिकार
क्र.प्रदेशशासकवर्षमुग़ल सेनापति
1. खानदेश अली खां 1591स्वेच्छा से अधीनता स्वीकारी
2. दौलताबाद चाँद बीबी 1599मुराद, अब्दुर्रहीम खानखाना,
अबुल फजल वा अकबर
3. अहमदनगर बहादुर शाह चाँद बीबी 1600———————
4. असीरगढ़ मीरन बहादुर 1601अकबर [अंतिम अभियान]
अकबर द्वारा जीते गए प्रदेश
यह भी देखे :- अकबर का शासन काल part 1 | Akbar’s reign

गुजरात विजय के दौरान अकबर सर्वप्रथम पुर्तगालियों से मिला व यहीं उसने सर्वप्रथम समुद्र को देखा था.

गुजरात अभियान को इतिहासकार स्मिथ ने संसार के इतिहास का सर्वाधिक द्रुतगामी आक्रमण कहा है.
अकबर का शासन काल part 2 | Akbar’s reign
अकबर का शासन काल part 2 | Akbar’s reign

अकबर के कुछ महत्वपूर्ण कार्य

कार्य वर्ष
दासप्रथा का अंत 1562 ई.
अकबर को हर्दामल से मुक्ति 1562 ई.
तीर्थ यात्रा कर समाप्त 1563 ई.
जजिया कर समाप्त 1564 ई.
फतेहपुर सिकिरी की स्थापना व राजधानी का
आगरा से फतेहपुर सिकिरी स्थान्तरण
1571 ई.
इबादतखाने की स्थापना 1575 ई.
इबादतखाने में सभी धर्मों के लोगों के प्रवेश की अनुमति 1578 ई.
मजहर की घोषणा 1579 ई.
दीन-ए-इलाही की स्थापना 1582 ई.
इलाही संवत की शुरुआत 1583 ई.
राजधानी का लाहौर में स्थानांतरण 1585 ई.

स्थापत्य कला के क्षेत्र में अकबर की महत्वपूर्ण कृतियाँ : दिल्ली में हुमायूँ का मकबरा, आगरा का लाल किला, फतेहपुर सीकरी में शाहीमहल, दीवाने खास, पंचमहल, बुलंद दरवाजा, जोधाबाई का महल, इबादतखाना, इलाहाबाद जका किला व लाहौर का किला.

यह भी देखे :- शिवाजी के उत्तराधिकारी part 2 | Shivaji’s successor

अकबर के दरबार को सुषोभित करने वाले नौ रत्न निम्न थे :- 1. अबुल फजल 2. फैजी 3. तानसेन 4. बीरबल 5. टोडरमल 6. राजा मन सिंह 7. अब्दुल रहीम खान-ए-खाना 8. फ़कीर अजीउद्दीन 9. मुल्ला दो प्याजा.

See also  महमूद गजनी के भारत पर आक्रमण

अबुल फजल का बड़ा भाई फैजी अकबर के दरबार में राजकवि के पद पर आसीन था. संगीत सम्राट तानसेन का जन्म 1506 ई. में ग्वालियर के एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था. इनका असली नाम रामतनु पाण्डेय था. इनकी प्रमुख कृतियाँ निम्न थी :- मियां की टोड़ी, मियां क मल्हार, मियां का सारंग, दरबारी कान्हरा आदि.

कंठाभरण वाणीविलास की उपाधि अकबर ने तानसेन को दी थी. तानसेन अकबर के दरबार में आने से पूर्व रीवां के राजा रामचंद्र के राजाश्रय में थे.

यह भी देखे :- शिवाजी के उत्तराधिकारी part 1 | Shivaji’s successor

अकबर का शासन काल part 2 FAQ

Q 1. अकबर सर्वप्रथम पुर्तगालियों से कब मिला था?
See also  बहमनी सल्तनत | Bahmani Sultanate

Ans गुजरात विजय के दौरान अकबर सर्वप्रथम पुर्तगालियों से मिला था.

Q 2. सर्वप्रथम अकबर ने समुद्र कब देखा था?

Ans सर्वप्रथम अकबर ने समुद्र गुजरात विजय के दौरान देखा था.

Q 3. इतिहासकार स्मिथ ने संसार के इतिहास का सर्वाधिक द्रुतगामी आक्रमण किसे कहा है?

Ans गुजरात अभियान को इतिहासकार स्मिथ ने संसार के इतिहास का सर्वाधिक द्रुतगामी आक्रमण कहा है.

Q 4. अकबर की स्थापत्य कला की महत्वपूर्ण कृतियाँ कौन-कौनसी थी?

Ans स्थापत्य कला के क्षेत्र में अकबर की महत्वपूर्ण कृतियाँ : दिल्ली में हुमायूँ का मकबरा, आगरा का लाल किला, फतेहपुर सीकरी में शाहीमहल, दीवाने खास, पंचमहल, बुलंद दरवाजा, जोधाबाई का महल, इबादतखाना, इलाहाबाद जका किला व लाहौर का किला थी.

Q 5. अकबर के दरबार के नौ रत्न कौन-कौन थे?

Ans अकबर के दरबार को सुषोभित करने वाले नौ रत्न निम्न थे :- 1. अबुल फजल 2. फैजी 3. तानसेन 4. बीरबल 5. टोडरमल 6. राजा मन सिंह 7. अब्दुल रहीम खान-ए=खाना 8. फ़कीर अजीउद्दीन 9. मुल्ला दो प्याजा.

Q 6. अकबर के दरबार में राजकवि के पद पर कौन आसीन था?

Ans अबुल फजल का बड़ा भाई फैजी अकबर के दरबार में राजकवि के पड़ पर आसीन था.

Q 7. संगीत सम्राट तानसेन का जन्म कब हुआ था?

Ans संगीत सम्राट तानसेन का जन्म 1506 ई. में हुआ था.

Q 8. संगीत सम्राट तानसेन का जन्म कहाँ हुआ था?

Ans संगीत सम्राट तानसेन का जन्म ग्वालियर में हुआ था.

Q 9. संगीत सम्राट तानसेन का जन्म किस परिवार में हुआ था?

Ans संगीत सम्राट तानसेन का जन्म ब्राह्मण परिवार में हुआ था.

Q 10. तानसेन का असली नाम क्या था?

Ans तानसेन का असली नाम रामतनु पाण्डेय था.

Q 11. तानसेन की प्रमुख कृतियाँ कौन-कौनसी थी?

Ans इनकी प्रमुख कृतियाँ निम्न थी :- मियां की टोड़ी, मियां क मल्हार, मियां का सारंग, दरबारी कान्हरा आदि.

Q 12. कंठाभरण वाणीविलास की उपाधि तानसेन को किसने दी थी?

Ans कंठाभरण वाणीविलास की उपाधि अकबर ने तानसेन को दी थी.

Q 13. तानसेन अकबर के दरबार में आने से पूर्व किसके राजाश्रय में थे?

Ans तानसेन अकबर के दरबार में आने से पूर्व रीवां के राजा रामचंद्र के राजाश्रय में थे.

Q 14. दासप्रथा का अंत अकबर ने कब किया था?

Ans दासप्रथा का अंत अकबर ने 1562 ई. में किया था.

Q 15. अकबर ने जजिया कर कब समाप्त किया था?

Ans अकबर ने 1564 ई. में जजिया कर समाप्त किया था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- मराठों की शासन व्यवस्था | Maratha rule

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment