अजयराज

अजयराज | पृथ्वीराज प्रथम के पुत्र अजयराज के काल को गोपीनाथ शर्मा ‘चहमानों के साम्राज्य का निर्माण काल’ मानते हैं। अजमेर को महाराजा अजय राज ने ही बसाया था

अजयराज

पृथ्वीराज प्रथम के पुत्र अजयराज के काल को गोपीनाथ शर्मा ‘चहमानों के साम्राज्य का निर्माण काल’ मानते हैं। अजय राज ने मालवा के परमार शासक नरवर्मन को परास्त कर उसके सेनापति सुल्हण को बंदी बना लिया।

यह भी देखे :- वासुदेव चहमान

अपने साम्राज्य को सुरक्षित रखने के लिए उसने 1113 ई. में अजयमेरु (अजमेर) बसाकर उसे अपनी राजधानी बनाया। उसने अजयमेरु में एक दुर्ग का निर्माण करवाया जिसे गढ़बीठली कहते हैं। यह तारागढ़ के नाम से प्रसिद्ध हुआ।

अजयराज
अजयराज
यह भी देखे :- शाकम्भरी एवं अजमेर के चौहान राजवंश

पृथ्वीराज विजय के अनुसार इसने गजनी सेना को भी पराजित किया था. इनका शासनकाल 1105-1133 ई. रहा था. उसके शासनकाल में धर्म, सहिष्णुता ओर विद्या की प्रगति से उस समय के सांस्कृतिक महत्वों का अनुमान लगाया जा सकता है. इन्होनें जैन धर्म को संरक्षण दिया था.

उसने ‘श्री अजयदेव’ नाम से चाँदी के सिक्के चलाये। कुछ मुद्राओं पर उसकी रानी सोमलेखा (सोमलवती) का नाम भी अंकित मिलता है। पृथ्वीराज विजय के अनुसार उसने गजनी के मुसलमानों को परास्त कर साम्राज्य की रक्षा की। अपने पुत्र अर्णोराज 1133 ई. को राज्य सौंपकर वह पुष्कराध्य चला गया।

यह भी देखे :- चौहान राजवंश की उत्पत्ति

अजयराज FAQ

Q 1. अजयराज के पिता का नाम क्या था?

Ans – अजयराज के पिता का नाम पृथ्वीराज प्रथम था.

Q 2. अजयराज के काल को गोपीनाथ शर्मा कौनसा काल मानते हैं?

Ans – अजयराज के काल को गोपीनाथ शर्मा ‘चहमानों के साम्राज्य का निर्माण काल’ मानते हैं.

Q 3. अजमेर की स्थापना किसने की थी?

Ans – अजमेर की स्थापना अजयराज ने की थी.

Q 4. अजमेर की स्थापना कब की गई थी?

Ans – अजमेर की स्थापना 1113 ई. को की गई थी.

Q 5. गढ़बीठली किसे कहते हैं?

Ans – अजयमेरु में एक दुर्ग का निर्माण करवाया जिसे गढ़बीठली कहते हैं.

Q 6. अजय राज का उत्तराधिकारी कौन था?

Ans – अजय राज का उत्तराधिकारी अर्णोराज था.

Q 7. अर्णोराज का राज्याभिषेक कब किया गया था?

Ans – अर्णोराज का राज्याभिषेक 1133 ई. को किया गया था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- किशनगढ़ के राठौड़

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *